नेहा भाभी को चोदे सोभा दीदी की पार्टी में पाट – 1 – Text Stories



एक दिन जब नेहा लाइब्रेरी में बैठ कर पढ रही थी तो नेहा को देखने लगे तो मेरा लंड टाइट होने लगा फिर नेहा को देखते हुए अपने लंड को सहला कर शांत करने लगे। फिर नेहा को पता नहीं कैसे पता चल गया।

तो मेरे तरफ देखने लगी तो मुझे पता नहीं चला क्योंकि नेहा की साड़ी की पल्लू थोड़ा सरकार हुआ था। फिर नेहा अपने पल्लू को ठीक करने लगी तो नेहा के तरफ देखे तो पता चला नेहा मुझे ही देख रही थी।

फिर एकटक से हम दोनों की आखे‌ टकरा गई फिर दोनों एक दूसरे को देखकर मुस्कुराने लगे।

इससे पहले कि कुछ होता नेहा मेरे पास आकर बैठ गई और मुझसे पुछने लगी क्या देख रहे थे।

मैंने कहा कुछ नहीं, फिर नेहा पुछी और मोनी कहा है 8 दिन से तो मैंने कहा ओ अपनी सोभा दीदी की सेवा कर रही है। तो नेहा बोली अच्छा इस लिए तुम मुझे देख रहे थे। वैसे मुझे पता है सोभा दीदी के पास किसका बच्चा है।

तो अंजान बन कर बोले सोभा दीदी के पति का और मुस्कराने लगे, तो नेहा बोली ओ तुम्हारा है सोभा मुझे सब बताती है।

मैंने ही कहा था तुम्हारे साथ करने के ‌लिए।

फिर मैंने कहा नेहा भाभी मुझे आप पसंद है मेरी गर्लफ्रेंड बनोगी।

तो नेहा बोली नहीं।

फिर कुछ दिन ऐसे ही बातें चलती रही और एक दिन सोभा दीदी के घर से बेटा होने की खुशी में पार्टी था, तो मुझे मोनी बोली।

फिर मैंने नेहा भाभी को फोन किए और बोले मुझे बेटा हुआ है चलों पार्टी में तो। नेहा भाभी मान गई।

तो पुछे किसके साथ आ रही हो तो नेहा बोली अपने बेटे के साथ पति तो 4 साल से विदेश में हैं।

तो मैंने कहा नेहा भाभी मेरी गर्लफ्रेंड बन‌ जाओ आपको खुश रखेंगे हमेशा।

READ:  Bhabhi ko unke ghar pe choda - Text Stories

फिर नेहा भाभी बोली ठीक है आज से में तुम्हारी गर्लफ्रेंड हूं पर हम दोनों के बिच की बात है तुम मोनी को भी नहीं बोलोगे।

मैंने कहा ठीक है भाभी।

फिर नेहा भाभी बोली रात में मुझे घर छोड़ने कीक्ष ज़िम्मेदारी तुम्हारी है विक्रम आज से में तुम्हारी गर्लफ्रेंड हूं।
तो मैंने कहा ठीक है।

तो नेहा पुछी पार्टी के लिए कपड़ों कौन सा पहनूं तो मैंने कहा आपके ऊपर काले रंग की साड़ी मस्त लगेगी। तो मैंने कहा मुझे विडियो काल करके दिखाओ कैसी साड़ी है।

फिर नेहा विडियो काल करके काले रंग की स्टाइलिश शिफॉन की साड़ी दिखाई। तो मैंने कहा नेहा बहुत ज्यादा मस्त है ये साड़ी।

फिर नेहा बोली इस साड़ी का मैचिंग ब्लाउज थोड़ा टाइट होगा क्योंकि मेरा साइज़ थोड़ा बढ़ गया है, तो मैंने मज़ाक में कहा कैसे तो नेहा भाभी बोली मेरा बेटा अभी भी मेरा ही दुध पीता है।

तो मैंने हंसते हुए कहा ‌नेहा मुझे ट्राई करके दिखाओ फिर नेहा भाभी फोन साइड में रखकर पहन कर दिखाई तो मेरी आंखें नेहा की ब्लाउज की बनावट के कारण दोनों चूचियों क्ष के बीच बनी घाटी से हटी ही नही रही थी

फिर मुस्कुराते हुए बोले – तुम मिलो पार्टी में, फिर मोका मिलेगा तो ढीला कर दुंगा ये ब्लाउज!

फिर मेरे बात को सुनकर नेहा शर्माकर गयी। और बोली पार्टी में मिलते हैं

फिर मुझसे रहा नहीं गया तो ‌नेहा भाभी को विडियो काल किए तो नेहा भाभी साड़ी पहनी ली थी।

फिर फ़ोन सामने रखकर हल्का मेक – अप कि, बालों को बाएं तरफ से लहराकार अपने आधे सीने पर सज़ा ली, और पिछे की तरफ का बैकलेस ब्लाउज दिखा कर पुछी कुछ कमी।

तो मैंने कहा नेहा भाभी साड़ी को थोड़ा नीचे पहनने जिससे आपकी गहरी नाभि मुझे देखें। फिर वैसे ही करके नेहा भाभी जब दोनों चुचियों के बीच की घाटी को आंचल की कैद से थोड़ा स्वतंत्र कर दिया जिससे देखने से मेरी प्यास बढ़ने लगी। फिर अपने 5 वर्ष के बेटे को कपड़े पहाई और एक कैब बुला‌ कर, खुद को शॉल से ढकी और रूम बाहर निकल गई और फ़ोन काट दी।

READ:  मोनी की गांड़ को चोद कर लंड को शांत किए - Text Stories

फिर पहुंच कर सोभा दीदी से मिले और अपने बेटे को गिफ्ट दिए और मोनी के तरफ जा रहे थे तो अपने जीजू को दिखा कर मुझसे मिलने से मना कर दी, तो नेहा का इंतजार करने लगे तभी मेरे पास किसी का फ़ोन आया तो साइड में होकर बात करने लगे तभी नेहा अपने बेटे के साथ पहुंची तो पार्टी शुरू हो चुकी थी।

तो शोभा दीदी नेहा की शॉल ले ली तो थोड़ी देर फ़ोन पर बिन कुछ सुने और बोले नेहा को देखते रह गए।

फिर शाल हटाने के बाद पता नहीं सोभा दीदी क्या बोली – फिर दोनों हंसने लगी। और नेहा के शाल को बाकी गेस्ट के शाल के साथ रखने चली गई।

फिर फोन को कट कर दिए और नेहा के पास जाकर उसके बेटे को चाकलेट दिए और बोले जाओ सब के साथ मजे करो।

फिर नेहा का बेटा नेहा के तरफ देखने लगा तो नेहा बोली ठीक है जाओ मैं यही रहुंगी।

नेहा के बेटे के जाने के बाद मेरी आंखों सीधा नेहा की चुचियों पर जाने लगी और फिर चेहरे के तरफ देखते।

कुछ ही देर में नेहा को देखने में इतना खो गए नेहा का हाथ पकड़ लिए तो कुछ लोग हम दोनों को देखने लगे थे।

तो नेहा अपनी नज़रें को निचे करके बोली मेरा हाथ छोड़ दो इससे पहले कि कोई देख ले।

फिर नेहा के हाथ को छोड़ दिए और अगले ही पल नेहा की कमर पर हाथ रखकर कमर को पकड़ लिए।

तो नेहा मेरे आंखों में देखी तो मैंने पुछा क्या हुआ तो नेहा बोली कुछ नहीं और नेहा को किसी का डर नहीं था।

READ:  बी.एड कालेज के छत मोनी के साथ मजे - Text Stories

वैसे भी नेहा कि कमर को निडर होकर पकड़े थे क्योंकि वे मेरी गर्लफ्रेंड बन गई थी तो नेहा के साथ कुछ भी कर सकते थे, और नेहा के ऊपर मेरा अधिकार हो गया था।

फिर कुछ देर बाद अपने हथेलि को नेहा की कमर से धीरे-धीरे नीचे ले जाकर नेहा की चुत्तर पर रोके तो नेहा मेरे हाथ को हटा कर मेरे से दूर हो गई।

फिर मैं नेहा के पास गए और पुछे तुम ठीक हो – तो नेहा बोली हां हां वो मुझे टाइलेट जाना था।

तो मैंने कहा चलो आपके लेकर चलते हैं और रास्ते में पुछे मुझ से दूर क्यों हो गई थी नेहा भाभी।

तो नेहा बोली मन के एक कोने में मुझे अपने पति की याद आ गई और सोचने लगे मैं अपने पति के साथ दगा कर रही हूँ, यही सोच कर तुम से दूर हो गए थे।

हॉल वाले टॉयलेट के पास सोभा दीदी के पिता और बाकी उनके कुछ दोस्त खड़े थे, तो मैंने कहा नेहा भाभी उपर वाले कमरे के टॉयलेट यूज़ कर लीजिए, इधर तो हर तरफ मेहमान भरे पड़े हैं।

इससे पहले नेहा कुछ बोलती सीढ़ियों से ऊपर चढ़ने लगे तो नेहा भी मेरे पीछे आने लगी।

मोनी का कमरा दूसरे माले पर था तो पहुंचे जहां मोनी को हमेशा चोदते थे।

मोनी के कमरे का दरवाजा खोले और एक तरफ इशारा करके मोनी की बिस्तर पर बैठ गए।

फिर मोनी टॉयलेट के अंदर गई और दरवाजा बंद कर दी।

बाकी आगे की कहानी अगले भाग में आपको कैसी लगी कहानी कामेट करके जरूर बताएं।

और मिलने के लिए मेल करें
[email protected]

This story नेहा भाभी को चोदे सोभा दीदी की पार्टी में पाट – 1 appeared first on new sex story dot com